Monday, August 25, 2014

Rozgar Samachar's invitation is awaiting your response

 
 
Rozgar Samachar would like to connect on LinkedIn. How would you like to respond?
Rozgar Samachar
Rozgar Samachar
irozgarsamachar.blogspot.in/
Confirm you know Rozgar
You are receiving Reminder emails for pending invitations. Unsubscribe
© 2014, LinkedIn Corporation. 2029 Stierlin Ct. Mountain View, CA 94043, USA

Tuesday, August 19, 2014

Rozgar Samachar's invitation is awaiting your response

 
 
Rozgar Samachar would like to connect on LinkedIn. How would you like to respond?
Rozgar Samachar
Rozgar Samachar
irozgarsamachar.blogspot.in/
Confirm you know Rozgar
You are receiving Reminder emails for pending invitations. Unsubscribe
© 2014, LinkedIn Corporation. 2029 Stierlin Ct. Mountain View, CA 94043, USA

Saturday, August 16, 2014

I'd like to add you to my professional network on LinkedIn

 
Rozgar Samachar
Rozgar Samachar
Rozgar Samachar at DPS Noida
Allahabad Area, India
I'd like to add you to my professional network on LinkedIn.
- Rozgar
Confirm that you know Rozgar
You are receiving Invitation to Connect emails. Unsubscribe
Learn why we included this.
© 2014, LinkedIn Corporation. 2029 Stierlin Ct. Mountain View, CA 94043, USA

मेरी बुआ की चुदाई

हेलो दोस्तो आपने मेरी आखिरी कहानी पड़ी होगी " मे और मेरी बुआ की चुदाई " . आज मे आपको अपने साथ घटी हुई एक सच्ची घटना बताने जा रहा हू. जिसे आज भी याद करके मुझे असीम आनंद की अनुभूति होती है ! अब मे अपनी कहानी पर आता हू ! एक बार मुझे किसी काम से इंदौर से ग्वालियर जाना पड़ा ! वो महीना शायद बारिश के महीनो मे से ही एक था ! मे वातनुकूलित कोच मे सवार हुआ ही था कि जोरो की बारिश होना शुरू हो गई! और मे अकेला बैठकर चाय की चुस्की ले रहा था और अपने मन मे अपनी बुआ के साथ हुई घटना को याद कर रहा था कि तभी कुछ देर बाद एक मीठी सी आवाज़ को सुनकर मेरा ध्यान टूटा. और मैने देखा की वो एक २८ साल की सादीशुदा औरत थी ! और जिसे देख कर ही मेरे होश उड़ गये! तभी उसने कहा कि ये मेरी बर्थ है और शायद आपकी मेरे सामने वाली ! मैने भी उसकी हां मे हां के साथ जबाब दिया , और मे उसके सामने वाली बर्थ पर जाकर के बैठ गया ! फिर उसने अपना समान सिफ्ट किया और सामने बैठ कर ही एक अँग्रेज़ी अख़बार पड़ने लगी , पर मेरी निगाहे उसको ही निहार रही थी और बाहर होती हुई बारिश के साथ उसकी खूबसूरती के आनद का अनुभव कर रही थी ! दोस्तो अगर उसके फिगर की बात करू तो 38-25-36 के लगभग होगा और उसके बूब्स तो हाहः मुँह मे पानी आगया ! एकदम दूध की फॅक्टरी थी ! और गाअँड तो उसकी क्या गजब थी??? की किसी बुड्ढे का झुका हुआ लॅंड भी भूके शेर की तरह जाग जाए! तभी उसने मेरी ओर देख कर पूछा कि आप कहाँ जा रहे है ! तो मैने उन्हे जबाब दिया कि मे ग्वालियर जा रहा हू ! तो उन्होने कहा की मे भी ग्वालियर ही जा रही हू ! इसी तरह से मेरी और उनकी बात शुरू हुई ! फिर मैने उनसे पूछा की आप अकेली ही जा रही है आपके साथ और कोई नही है , तो उन्होने बोला कि मेरे पति फोज मे नोकरी करते है ! तभी किसी ने ह्मारे केबिन के गेट पर दस्तक दी , वो ओर कोई नही बल्कि वेटर था जो कि रात के खाने का ऑर्डर लेने के लिए आया था फिर हम दोनो ने अपना अपना ऑर्डर बुक कर के देर से खाना लाने को कहा ! तभी मैने देखा की उसको अपने पैर रखने मे दिक्कत हो रही है क्यूकी उसका समान सीट के बाहर ही निकल रहा था ! तो मैने उनको बोला की आप मेरी सीट पर अपने पैर रख कर बैठ सकती है और उसने पैर रख कर मूज़े थैंक्स कहा ! फिर उसने मुजसे पूछा की आप क्या करते हो और कहाँ पर रहते हो ! तो मैने भी उन्हे हस कर जबाब देता गया ! तभी उसे सर्दी सी महसूस हुई ओर फिर उसने अपनी एक शॉल निकाल कर अपने उपर डाल ली ! मैने पूछा की क्या सर्दी लग रही है तो उसने बोला हां ! फिर उसने मुजसे कहा की आप भी अपने पैर मेरी सीट पर रख कर बैठ जाइए ! और मैने भी वही किया ! फिर मैने उसके और उसके बच्चो के बारे मे पूछा तो वो थोड़ा सा हस कर मुजसे बोली की अभी अभी मेरी नई नई शादी हुई है ! तो मैने कहा की आपके पति किस मिज़ाज के है नई नई शादी हुई है और इतनी खूबसूरत बीवी को कोई छोड़ कर कैसे जा सकता है अगर मे उनकी जगह होता तो .............!!!!! . और इतना कहते हुए हि रुक गया , तो उसने एकदम से पूछा कि - तुम उनकी जगह होते तो क्या करते , तो मैने कहा की मे तो आपको ढेर सारा प्यार देता ! और इतना सुनते ही वो ह्स पड़ी. तभी मुझे एक सरारत सूझी, मैने अपने पैर के अंगूठे को उसकी गांद से सटाना चालू कर दिया ! लेकिन वो फिर भी मुजसे हस्ते हुए ही बाते कर रही थी ! और फिर उसने मुजसे पूछा की क्या तुमरि कोई गर्लफ्रेंड है ? ?
तो मैने भी मज़ाक मे जबाब दिया की कोई अभी तक आप के जैसी खूबसूरत लड़की मिली ही नही ???!!! और मैने साथ ही साथ अपने पैर के अंगूठे का दबाब बडाते हुए उसकी गाड़ मे डालने की हरकत करता रहा ! तभी वो मेरे जबाब पर एक दम से हसी ! तो मेरा होसला और बड़ा ! लेकिन तभी गेट पर वेटर ने खाने के साथ दस्तक दी और मुझे उसपर काफ़ी गुस्सा आया ! क्यूकी अगर वो न्ही आता, तो मे शायद अपने मकसद मे कामयाब होने की कोसिस करता ! फिर हम दोनो ने खाना खाया ! और खाना ख्तम करके मैने उससे पूछा की क्या आपको आपके पति की याद न्ही आती ?? आपकी तो नई शादी हुई है ? तो इस पर वो तोड़ा उदास होकर बोली की आती तो है पर क्या करु !!!!! . और तभी उसके पति का फोन आया और वो उससे बात करने लगी तो मेरे मान को फिर से बुरा लगा ! और करीब 1 घंटे बाद करने के बाद वो केबिन मे दाखिल हुई ! और उसके चेहरे पर नाराज़गी के भाव झलक रहे थे ! तो मैने उससे पूछने की कोशिश की तो वो तो मुझ पर भी नाराज़ हो गई और अपनी बर्थ पर लेट कर अपनी चादर मूह तक ढक कर सो गई ! मुझे भी उसके इस बर्ताव पर गुस्सा आया और मे भी बिना कुछ बोले अपनी बर्थ पर आँखे बंद कर लेट गया ! और फिर से अपनी बुआ की चुदाई को याद करने लगा और पता नही कब मेरी नींद लग गई ! तभी मुझे किसी के कापने की आवाज़ महसूस हुई और मैने देखा की रिया अपनी शॉल मे सर्दी के मारे काँप रही है ! लेकिन उसने जो बर्ताव मेरे साथ किया था उस पर मुज्ज़े गुस्सा आ रही थी ! फिर भी मे अपने आप को उसके पास जाने से ना रोक पाया !!
मैने उसके शॉल को उसके मूह से हटा कर के देखा तो मेरा दिल भी एक बार को घबरा गया , क्यूकी रिया की आँखो से आँसू और मूह से सर्दी की मार निकल रही थी ! जब मैने उसके सिर पर उसके रखे हुए हाथ को उठा कर जब उससे पूछा की रिया क्या हुआ तुम्हे ??? तुम रो क्यू रही हो ???
और तभी रिया एक दम से उठ कर मेरे गले लग जाती है और मुझे पागलो की तरह किस करने लगती है !!!!
मुझे तो कुछ समझ आता उससे पहले ही मे तो एक अलग ही आनंद की दुनिया मे पहुँच चुका था ! फिर करीब 10 मिनट के आनंदमयी चूमबन के बाद जब हम अलग हुए ! तो एक दूसरे से अपनी नज़रे न्ही मिला पा रहे थे ! फिर वो मेरे सामने रोने लगी ! तो मैने उसके आँसू पोछते हुए ! पूछा की क्या हुआ तुम्हे ??? तो वो रोते हुए मुजसे बोली की मेरी शादी मेरी मर्ज़ी के खिलाफ हुई थी और जिससे मेरी शादी हुई है वो कोई आर्मी मे नही है बल्कि एक नमार्द किस्म का इंसान है ! जो मुझे एक पत्नी का सुख कभी नही दे सकता ! लेकिन मेरे घर वालो ने पैसे की चमक को देख कर मेरी शादी उस नमार्द के साथ कर मेरी जिंदगी खराब कर दी ! और फिर रोते हुए उसने मेरे कंधे पर सिर रख दिया !! तभी मैने उसे अपनी बाँहो मे लेकर उसके सिर पर प्यार से हाथ फिराने लगा ! तभी उसने मेरी और देखते हुए बोला !! कि अगर मे तुम्हारी बीवी होती तो तुम मुझे कितना प्यार करते ????
मैने कहा की " शायद तुम्हारी आँखो मे आज ये आँसू ना होते !!! . तो फिर एक दम से मूज़े किस करती हुई बोली की राज मे तुमरि बीवी ही हूँ ! मुझे आज अपनी बीवी मानकर प्यार करो !! और इस बार मैने अपने होंठ उसके गुलाबी होंटो पर रख कर अपने प्यार का परिच्य दिया ! और उसे किस करते हुंे ना जाने कब मेरे हाथ उसके स्तन तक पहुँच गये और मई उनका ब्लाउस के उपर से ही मर्दन करने लगा ! जिससे रिया एक नागिन की तरह मुझसे तड़प कर लिपट गई ! तभी मैंने उसकी चूचियाँ जोर से दबा दीं, जिससे हल्के से चीख उठी, पर उसे बहुत मजा आया था। वह भी मेरे लंड पैन्ट के ऊपर से दबा रही थी। मैंने उसके ब्लाऊज़ को निकाल दिया, उसकी मलाई जैसी चूचियाँ देख कर मेरा लन्ड फ़नफ़नाने लगा।अब मैंने उसकी चूचियाँ अपने मुँह में ले लीं और जोर-जोर से चूसने लगा, वो मेरे सर को दबा कर चुसवाने लगी।तड़पने लगीं और सिसकारने लगीं, "उईईइ अह्ह्ह्हह" की आवाज़ें निकालने लगीं। और मई भी अपने एक हाथ से उसकी चूत को उसकी साड़ी के उपर से ही मसालने लगा जिससे वो तड़प उत्ती और मेरे सिर को अपने बूब्स पर ज़ोर देकर दबाने लगी ! कुछ देर की चूमा-चाटी के बाद मैंने उसकी साड़ी और पेटीकोट भी उतार दिया। इस बीच उसने मेरी टी-शर्ट और जीन्स भी उतार दी थी। अब मैं और वो अपने एक-एक कपड़े में बचे थे। जो काम-शास्त्र के प्रमुख योद्धा थे, सिर्फ वे ही परदे में थे। उसके अधरों का रस चूसने के बाद मैंने उसकी आँखों की ओर देखा तो वो हर तरह से तैयार दिखी ! फिर मैंने उसकी पैन्टी उतारी, उसकी बुर पर हल्के-हल्के बाल थे। बुर काफ़ी दोनों से ना चुदने की वजह से बहुत टाइट हो गई थी और उसमें से कामरस फूट रहा था।
मैंने उसको सीधा लिटा दिया और उसकी बुर को चाटना शुरू किया, वो पागल हो रही थी उसे इतना आनन्द आ रहा था कि बता भी नहीं सकता। उसके मुख से काम भरी आवाजें निकल रही थी 'आआआअ आआह्ह आआन्न' वो मुझे और भी जोशीला बना रही !जोर-जोर से चूसने के लिए बोल रही थी।'चाटो मेरे राजा.. चाटो और जोर से चूसो.. मेरे कामरस को और पी जाओ सारा..!' अगले दस मिनट तक मैं उसकी योनि को चूसता एवं चाटता रहा तब वो कहने लगी- अब और मत तड़फाओ, अब मैं बरदाश्त नहीं कर सकती इसलिए जल्दी से अपने लिंग को मेरी योनि के अंदर डाल दो। पर मे उसको अभी उसको और तड़पाना चाहता था जिससे उसे उस आनंद की प्राप्ति हो जिससे उसकी वरसो की प्यास बुझ सके ! मैने फिर से उसके स्तानो का मर्दन करने लगा और फिर मैने उसे अपने लॅंड को चूसने को बोला ! तभी उसने मेरे लण्ड को अपने हाथ से पकड़ कर सहलाना शुरू किया ! मेरा लण्ड 7 इंच का है और 2 इंच मोटा भी है।तुरंत उसने टट्टों को बड़े प्यार से सहलाया, लण्ड की कुछ प्यार भरी चुम्मियाँ लीं और सुपारी की खाल पूरा पीछे खींच कर सुपारी नंगी कर दी। एक बूंद टोपे के छेद पर उभर आई थी जिसे रिया रानी ने तुरंत जीभ से लपक लिया और खूब खुश होकर चहकी- हूंउउऊऊउउ… स्वाद आ गया ! उसने मुखरस से तर करके जीभ बाहर निकाली और धीरे धीरे सुपारी को चाटने लगी, उसने टोपा चारों तरफ चाट चाट के मुझे जन्नत दिखा दी। हर थोड़ी देर बाद एक बूंद लौड़े के छेद पर आ जाती जिसे रिया रानी फौरन में में ले लेती।अब रिया रानी ने लण्ड की खाल आगे पीछे करना आरंभ कर दिया। वो लण्ड की सुपारी चूसे जा रही थी और दोनों हाथों से लण्ड को पंप कर रही थी। बीच बीच में एक हाथ से मेरे अंडकोश भी सहलाती जाती।
मस्त चुसाई चल रही थी, लौड़ा चूसने की रिया रानी एक्सपर्ट थी। कभी वो सिर्फ टोपा चाटती चारों ओर जीभ फिरा फिरा के, तो कभी वो पूरा लण्ड मुँह में घूसा लेती और मुँह के भीतर जीभ से लण्ड चाटती। कई बार रिया रानी लण्ड को ऐसे चूसती जैसे बच्चे लॉलीपॉप चूसते हैं। लण्ड की उत्तेजना बढ़े चले जा रही थी, मेरा बदन अब तपने लगा था, गला घुटा घुटा सा लगने लगा था।
रिया रानी ने अब जीभ को मोड़ के सिरे की नोक सी बना कर सुपारे के सुराख में घुसेड़ दिया तो मेरे बदन मे एक ज़बरदस्त सनसनी दौड़ी, लण्ड में सुर सुरी होने लगी। तब रिया रानी ने जीभ घुसाए घुसाए अपने होंठ पूरी ताक़त से लण्ड पर जमा दिए और होटों से लण्ड को ज़ोर से दबाए दबाए चूसने लगी। आनन्द की हद पार होने लगी थी, रिया रानी ने मुझे सताना चालू कर दिया था।
जैसे ही उसे लगता कि मैं झड़ने वाला हो रहा हूँ, वो एकदम लण्ड पर से होंठों का दबाब कम कर लेती और थोड़ी सी जीभ भी छेद से बाहर कर लेती। जैसे ही मैं काबू पा लेता, वो दुबारा अपने विशेष स्टाइल से चूसने लगती। मेरा लाण्डिया चूस चूस कर मेरा हाल बिगाड़ दिया। मैं उत्तेजना के मारे कांप रहा था। मेरे मुँह से आह… आह… अय्या… आ… आ… आहा जैसी आवाज़ें आने लगीं। लण्ड कबू से बहर हुए जा रहा था। रिया रानी जान गई कि मैं खलास होने के बहुत करीब हूँ, उसने पूरा लौडा मुँह में ठूंस लिया था और बडी तेज़ी से मुँह को आगे पीछे करके वो चूस रही थी। उसका मुँह रस से भर गया था जिससे लौड़ा तर होकर चुसाई का मज़ा लूट रहा था। जब लण्ड मुँह में घुसता तो पिच पिच की आवाज़ निकलती। अचानक एक तरंग मेरे सिर से तेज़ रफ्तार शुरू होकर मेरे बदन से गुज़री और लण्ड से होती हुई मेरे लौड़े के छेद से निकली और साथ ही मैं झड़ा।
रिया रानी ने सारी मलाई निगल ली, एक बूंद भी उसने बर्बाद न होने दी। जब मैं झड़ झड़ कर खाली हो गया तो रिया रानी ने बैठे लौड़े को मुँह से निकाला जिसमें पुच की आवाज़ हुई। रिया रानी ने कहा- राजे… बस अब जल्दी से चोद दो… अब मैं इतनी गर्म हो गई कि उबल उबल कर फट जाऊँगी… आआआह… हाय… ऊऊऊऊँ… बस राजा बस… मैं हाथ जोड़ती हूँ… अब देर ना करो !
मैं बोला- थोड़ी देर और मुझे खेलने दे अपने मस्त बदन से… हरामज़ादी जब लण्ड चूसते हुए तू मुझे सता रही थी उसका कुछ नहीं… अब चूत गर्मा गई है तो ज़रा भी तसल्ली नहीं हो रही है। जब फटने को हो जाएगी तभी चोदूँगा, फटने नहीं दूँगा तुझे !
इतना कह कर मैंने चूत पर उंगली फिराई तो ढेर सारे चूत के रस से उंगली भीग गई। वो तो दबा के पनिया रही थी।
जैसे ही बुर में उंगली घुसाई, रिया रानी की आहें और भी तेज़ हो गयीं, बुर से रसे का फव्वारा छूटने लगा, रस बह बह कर उसकी जाँघों से नीचे घुटने तक आ गया। पहले तो मैंने सारा रस उसकी जाँघों से चाटा जिससे रिया रानी और भी अधिक चुदासी हो गई।
चुदाई की प्यास से व्याकुल होकर नीलमरिया रानी अब गिड़गिड़ा रही थी कि मैं उसका कीमा बना दूँ, बुर फाड़ कर कचूमर निकल दूँ।
मेरा लण्ड भी फिर से टनाटन हो चुका था। चूत का रस तो अब टपकने लगा था। मैंने अपने हाथ को चूत के नीचे रखा तो ढेर सारा चूतामृत से हाथ भर गया। बहुत मज़ा आया वो चिकना, बहुत हलका सा नमकीन और बहुत ज़रा सी खटास लिए हुए रस को जब मैंने पिया। लण्ड तो अब बुरी तरह मचलने लगा था। चूतरस पीकर तो मैं भी बहुत अधिक उत्तेजित हो गया था।
मेरी मर्ज़ी तो बहुत थी कि मैं नीलम रानी की चूत का रस तसल्ली से पियूं क्योंकि इतना अमृत बहा बहा के उसकी बुर को देख कर मेरे मुँह में पानी आ रहा था। कितना स्वादिष्ट था रिया रानी का चूतरस !!! लेकिन बाथ रूम में उसकी चूत चूसना संभव नहीं था।
तो मैंने रिया रानी से कहा कि वो आगे को दीवार के सहारे जितना झुक सकती है, झुक जाए और चूतड़ थ़ोडे से उठा ले, ताकि मैं घोड़ी की तरह उसे चोदूँ। यह सुन कर तो वो बड़ी खुश हुई और फौरन ही बिल्कुल सही पोज़ीशन में आ गई। अब रिया रानी के चिकने, सुन्दर और मुलायम मुलायम गोल गोल नितंब मेरे सामने थे। उन्हें देख देख कर मैं मतवाला हुआ जा रहा था जबकि इधर रिया रानी चुदाई के लिए बेकरार हुई जा रही थी। मैंने उन चूतड़ों पर प्यार से हाथ फेरा और रिया रानी की टांगें चौड़ा कर पीछे से अपना सुलगता हुआ लण्ड एक ही शॉट में बुर की अंदर घुसेड़ डाला। रिया रानी ने मस्ता के एक किलकारी भरी और तेज़ तेज़ चूतड़ हिलाने लगी। रिया रानी हाँफते हुए हाय हाय करते हुए चुदवा रही थी। बड़ी हैरत की बात थी कि यह लड़की जिसकी नथ मैंने सिर्फ तीन दिन पहले खोली थी, और जिसकी अब तक केवल एक दिन चुदाई हुई हो, अब ऐसे हुमक हुमक कर चुद रही थी।
मुझे भी मज़ा तो बेहद आ रहा था। इतनी टाइट बुर और उसमें से बहता हुआ ढेर सारा रस मेरी ठरक सातवें आसमान पर ले गया
लण्ड में एक हलचल मची हुई थी। अब तक तो मैं रिया रानी के नितम्ब पकड़ कर धक्के मार रहा था। फिर मैंने उसकी चूचियाँ पीछे से कस के भींच लीं और उन्हें दबोचे दबोचे मैं बड़ी तेज़ी से तगड़े तगड़े धक्के पेलने लगा। रिया रानी मज़े से बेहाल हुई जा रही थी, जितना ज़ोरदार धक्का मैं ठोकता उतनी ही तेज़ उसकी सीत्कार निकलती। रिया रानी ने कहा- राजे… मदमस्त कर दिया तुमने… पूरी ताक़त लगा दो मेरे राजा… इतने ज़ोर से पेलो कि चूत के परखच्चे उड़ जाएँ ! हाँ… हाँ… हाँ… राजा… हाँ… हाँ… .और ज़ोर का धक्का ठोक ना मादरचोद… हाँ… राजा… .हाँ… हाँ… हाँ… हाँ… बड़ा मज़ा आ रहा है… ऐसे ही चोदते रहो… थोड़ा राजा मम्मे को और ज़ोर से मसलो… हाँ राजा हाँ… राजा सीट पर बैठ कर चोदो ना… थक गई मैं खड़े खड़े चूत मराते ! 'चुपचाप खड़ी खड़ी चुदे जा… सीट टूट जाएगी हम दो लोग के वज़न से… सीट चुदाई के लिए थोड़े ही डिज़ाइन की गई है !' यह कहते हुए मैंने एक ज़बरदस्त धक्का रसीद किया। रिया रानी सारी थकान भूल के चूत में मची हलचल का मज़ा लेने लगी। मैं झड़ने के बहुत क़रीब पहुँच गया था, मेरी साँसें तेज़ हो गई थीं और मेरा शरीर पसीना पसीना हो चुका था, मज़ा बेइंतिहा आ रहा था। रिया रानी तो बिल्कुल पगला गई थी धकाधक चूत में मचाई हुई लण्ड की धमाचौकड़ी से।
इधर मैं उसके चूचुक ज़ोर ज़ोर से मसल ही रहा था, चूत से रस लगातार बहे जा रहा था, मेरा लण्ड, झांटें और जाँघों का ऊपर का प्रदेश सब चूतामृत से भीग चुके थे।
मुँह से 'हैं… हैं… हैं… हैं' की सीत्कार भरते हुए मैंने दस बारह बड़े लम्बे धक्के मारे।
धक्के इतने ज़ोरदार थे कि हर धक्के पर जब लण्ड चूत में दनदनाता हुआ बच्चेदानी के मुहाने पर ठुकता तो मेरे सिर तक धमक महसूस होती। फच फच फच फच की आवाज़ें हर धक्के पर आतीं। अंत में मैं झड़ा और लण्ड के कई तुनके मारे और हर तुनके पर एक बड़ा सा वीर्य का लौंदा रिया रानी की चूत में उगलता गया। रिया रानी तो तीसरे धक्के में ही ढेर हो गई। वो इतना अधिक बारम्बार झड़ी कि पूछो मत। अगर मैंने उसे कस कर जकड़ा न होता तो शायद गिर ही पड़ती।
यही परेशानी है खड़े खड़े बाथ रूम में चोदने में, झड़ने के बाद लेटने को नहीं मिलता।
स्खलित होती बुर के रस की गर्म गर्म फुहार ने लण्ड को तरबतर कर दिया और इस चिकने रस से बैठा हुआ लौड़ा पिच्च्च से बाहर फिसल आया, साथ में ढेर सारा मेरे मक्खन से मिला जुला चूत का पानी भी रिस रिस कर बाहर निकलने लगा जिससे रिया रानी की योनि के आस पास का बदन और घुटनों तक जाँघें भीग गईं।
रिया रानी तो अर्धमूर्च्छा की हालत में थी इसलिए मैंने टॉइलेट पेपर से उसके बदन को साफ किया और सुखाया और फिर अपने आप को।
रिया रानी को बाहों में लेकर कुछ देर तक मैं अपनी सांसों को काबू में करता रहा।
थोड़ी देर में रिया रानी भी जागृत हो गई, मैंने पूछा, 'क्यों रानी… मज़ा आया? कैसा लगा बाथ रूम में चुदाई करवा के?'
'राजे… राजे… राजे… इतना मज़ा आया कि मैं बता नहीं सकती। तुम तो सच में बहुत शातिर चोदू हो। तुम्हारी पत्नी का तो जीवन सफल हो गया हर रोज़ तुम्हारा लौड़ा ले ले कर… मैं तो राजा तुम्हारी दासी हो गई ज़िंदगी भर के लिए… बस चोदते रहो, चाटते रहो और चूसते रहो मुझे… और कुछ भी ना चाहूँ मैं !'
मैं बोला- रिया रानी, तू भी तो दिल खोल के मज़ा देती है… !!!! और फिर हमने अपने कपड़े ठीक कर के एक दूसरे की बाँहो मे सो गये ! सुबह जब गवालियर स्टेशन पहुचे , तो रिया ने मेरा नंबर लिया ओर दोबारा मुजसे मिलने का वादा किया !!!!

तो दोस्तो कैसी लगी आपको मेरी नई कहानी !!!
कृपया मुझे जबाब ज़रूर दे जिससे मे और अपनी जीवन की सच घटनाए लिखता रहू!

Get your own FREE website, FREE domain & FREE mobile app with Company email.  
Know More >

Mooh boli behan ki chudayi

helo dosto ye meri first or real story hai. i am sameer amritsar . maine ek mooh boli behn bnayi thi jiska nam soniya(nam badla hua) hai. uska size 32, 28 32 tha. hm dono ik marketing company me kam karte the. bus kam k doran wo jyadatar mere sath hi hoti thi. or hm dono akee hi hote the. bus bike par aana jana aisa chalta raha. kuch mahino k baad muje uske sath pyaar aane lga. main uski taraf attract hone lga. jab main or wo kahin bike par jate main uske hatho se apne aap ko baand leta usko muje pakdne k liye kehta . i think usko tab nhi pta tha k mere man me kya chal raha hai. aisa chalta rha mera man uske sath sex karne ko karta tha. ik din hm sb unke ghar me so rahe the wo mere sath thoda sa hat kar so rahi thi par muje neend nhi aa rahi thi. maine dheere se himat karke apna hath uski gardan k pass rakh diya thoda sa neeche darte darte lane lga to wo jaag gayi usne mera hath utha k jhatke se side pe kar diya. next day usne bhut bura bola maine mafi b mangi. fir purani tarah life chal rah thi par main to uske pyar me pagal tha sex karna chahta tha uske sath. uske ghar walon ko mere upar vishwas tha. ik din mere ghar me koi nhi tha. maine usko raat ko mere sath mere ghar jane ko kaha wo maan gayi uske ghar walo ne bhej diya . ham ghar pahunche to usne chane kiya or khana bnane lagi or main nhane chala gaya. hm dono ne khana khaya sath sath t v dekh rahe the main ekha ab so jate hai. maine t v or lite band ki to hm dono bed par let gaye wo pta nahi so rahi thi k nahi muje neend nahi aa rahi thi . apne ghar me hone k karan mujme thodi dileri aa gayi thi maine apni baju uske upar rakh di usko apni taraf kar liya usne kuch nahi kha meri himat or bad gayi . fir maine uski gardan ki tarf hwa chodi wo madhosh ho rahi thi fir maine uske gga par 2-3 kis kiye meri himat or bad gayi fir maine use lip lock kiya usne tab thoda sath diya kyunki wo b thodi garam ho chuki thi. fir usko hosh huya to wo side par hi=okar so gayi or main fir subah uthi to usko bhut bura lag raha tha or mere upar guss b aarha tha muje b apne upar gussa aa rha tha usne kahn muje pehle se shak tha k aaj aisa hoga kuch .muje b bura laga behn bnaya or uske sath sex k bare me soch raha hoon. par kya karta mujse rha nahi ja raha tha . fir hm normal ho gaye . fir achank hm kaam k silsilye se out of punjab gaye dono akele . wahan par jakar hotel ka room liya . raat ko khana khaya or sone k liye bed par chale gaye. mere se nahi raha jata tha jab wo mere sath akeli hoti thi. fir maine usko apni or kheencha or usko apne upar lita liya or uske chhotron ko dbane laga kuch time k baad usne b mera sath diya. aisa karte hm so gaye. morning jab uthe to main nahaya usneb naha liya maien fir se usko pakad liya. hm apne client k ghar pahunch gaye . wahan par hm 2-3 din ruke . pehli raat hm wahan ek hi bed par soye next day raat ko hm so rahe the hme garmi lag rahi thi to aunty ne hmara bed bahar laga diya hm dono wahan par sone k liye chale gaye par soye nahi. asal me ab se usne muje poori tarah response dena shuru kiya . mene uske boobs dbane shuru kar diye or apna lund usko pakda diya aahh kya feeling thi uska hath pakad k maine 2-3 baar muth mari jab jhoos aa jata wo chod deti or muje bahar chode ko kehti . aisa sari raat chlta raha .usne tab muje btaya k uski frnd ka age frnd tha wo b use pasand karta tha or wo b karti thi par ik din usko us ladke ne sex k liye kha tha is liye usne usko chod diya par wo muje nahi man kar payi kyunki main to uske sath hi rehta tha . fir jab hm punjab wapis aaye ab wo mere sath khul chui ti kyunki uski b sehmti ho chuki thi wo muje janu darling hubby keh k bulati thi. fir to yeh silsila chalta raha kabhi uske ghar raat ko kabhi mere ghar raat ko. raat ko hm phone par kafi sex bari baatie karte main muthi marta uske naam ki or wo mere naam k ungli apne choot me deti main bike par hi aata jata uske boobs pakad leta. fir out of punjab gaye fir wahn b kiya jahan moka milta ham lag jate chahe kisi ka b ghar ho. karib ik saal poora maja liyaik din fir mere ghar me koi nahi tha. maine usko sath le aya wo to muje pta tyar thi ab to. hm dono ne naha kar khan khya or jaldi se bed par aa gaye pta to tha hmari dono ki planing kya hai. usne night soot pehna tha or main apne underwear me hi tha . jaan buj k wo meri taraf se mooh mod k sa]o gayi par maine usko madhosh kar diya or djeera dheera uske sre kabde bra to sne pehni nahi thi uski panty b uta di or maine apna underwear b utar ditya . ham dono ab poore ange the main usko khade kar k uska badan nuhrta or chat raha tha . fir usne b meri body ko chata bus kya tha karne lage fir sex maine condom to pehle se le aya tha . usko kaha mer lund par condom chadaye condom set nhi ho pa rha tha so bina condom k main or wo sex k liye tyar ho gaye wo madhoshi me keh rahi thi aaj to daal hi do andar kyunki pehle andar nahi dalte the k kahin pragnent na ho jaye . par us din na us se or naa mujse raha ja raha tha . fir main uske boobd ko choosa . choot ko chata uski smell li . apni ungliyan uski choot me kafi baar anadar bahar karta raha . wo ik baar jhad chuki thi or mera hath uske pani si gila ho chuka tha fir main apna lund uski choot me dalne laga thoda thoda uski choot kafi tight or mera lund 7" lamba or 2|1/2 " mota thoda sa andar kar diya tha par wo cheekne lagi hm is dar ka karan k kahi pragnent na ho jaye fir hat gaye par jitna kiya mja bhut aaya main b ab jhad chuka tha fir ham dono jaffi daal k sa gaye . wo apni choot me meri ungliyan to leti hi rehti thi. usne b muje sex ki kafi batien btayi kyunki wo medical ki student reh chuki thi. fir hm jab moka milta lage rehte. ham dono to poore hawas me the .usko b mere sath sex karne me maza ata tha . main to uske sath shaddi karne k iye b tyar tha or wo b k ghar walon ko kaise b kar k mana lenge . fir pta nhai kya huya kuch dino ke baad uskoi apna purana yaar mil gaya fir usne muje dokha dena start kar diya . mene b uske bare me sochna start kar diya or apne kaam ki taraf dyaan dena start kar diya. ab wo ladka galat adton me pad gaya to usne use b chod diya . par main aaj b usko yaad karta tha . par uska attitude ego hai . wo kabhi kabhi pane ghar milti to hai par helo hi k ilawa kuch nahi. wo itna accha response nai deti nahi deti to na de to mera b dyan uski taraf nahi jata . kaisi lagi kahani ? reply


Get your own FREE website, FREE domain & FREE mobile app with Company email.  
Know More >

Friday, August 15, 2014

Teen girl nude showing off her sexy little body and shaved pussy



Get your own FREE website, FREE domain & FREE mobile app with Company email.  
Know More >

Girl nude with her legs in the air and shaved pussy ready for a hard cock



Get your own FREE website, FREE domain & FREE mobile app with Company email.  
Know More >

Copyright @ 2013 american nude girls.